चौथे टेस्ट मैच में भारत 36 रन बनाकर भी जी’त सकता है बस करना होगा ये काम?

भारत और इंग्लैंड के बीच चौथा टेस्ट मैच शुरू होने में अभी 2 दिन बाकी है और भारतीय टीम सीरीज में ली’ड बनाने की फिरा’क में होगी जिसके लिए भारतीय टीम हर मुमकि’न कोशि’श करना चाहेगी ।

लेकिन आपको हम बता दे भारतीय टीम 36 रन बनाकर भी जी’त सकती है क्युकी ओवल के मैदा’न पर इससे पहले ये कार’नामा हो चुका है हम ऐसा क्यू कह रहे आइए आपको बताते है।

आज से लगभग 23 साल पहले एक खिलाड़ी इंग्लैंड पर अके’ले ही भा’री पड़ गया था और मा’त्र 36 रन बनाकर ही अपनी टीम को जी’त दिला दी थी।

ये मैच 1998 में इंग्लैंड और श्री लंका के बी’च 27 अगस्त से 31 अगस्त के बी’च खेला गया था जिसने श्री लंका ने इंग्लैंड पर पूरे 10 विकेट से जी’त हा’सिल की थी

आपको बता दे की इंग्लैंड ने टॉस जीत’कर पहले बल्लेबाजी करने का फै’सला किया और पहली पारी में 445 रन बनाए ज’वाब में श्री लंका अपनी पहली पारी में 591 रन बनाने में स’फल रहा ओर 146 रन की महत्व’पूर्ण बढत ली।

उसके बाद दूसरी पारी में इंग्लैंड को के’वल 181 रन पर ढे’र कर दिया और इस तरह श्री लंका को 36 रन का ल’क्ष्य मिला जिसे उसने बिना विकेट खो’ए हासि’ल कर लिया और पांचवे दिन 10 विकेट से मैच जी’त लिया।

16 विकेट लेकर मुरलीधरन रहे मैच के हीरो

इस मैच के हीरो रहे श्री लंका के स्टार गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन जिन्होंने दूसरी पारी में इंग्लैंड 181 रन पर आउ’ट करने में बड़ी भूमि’का नि’भाई और 9 विकेट हासि’ल किए उन्होंने लग’भग 55 ओवर गेंदबाजी की ओर मा’त्र 65 रन दिया जिसमे 27 ओवर मेडन थे एक बल्लेबाज रन आ’उट हो गया था नही तो पूरे 10 विकेट ले लेते ।

ऐसा ही कुछ हाल पहली पारी में भी किया जिसमे पहले पहली पारी में भी मुरलीधरन ने 7 विकेट चट’काए थे. यानी दोनों पारियों को मिला’कर उन्होंने कु’ल 16 विकेट चट’काए. मुरली को इतनी क’माल की गेंदबाजी के लिए प्लेयर ऑफ द मैच भी चु’ना गया.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*